अनुच्छेद ३१:

प्रत्येक व्यक्तीए को अपने और अपने परिवार के स्वास्थ्या और खुशहाली के लिए सॉफ और स्वच्छ पानी का अधिकार है और कोई भी व्यक्ति अपनी आर्थिका दशा के कारण इस अधिकार से वंचित नही रहेगा ।

FLOW producer Steven Starr at the United Nations presenting the petition to add an Article 31, The Right To Water, on the 60th Anniversary of the Universal Declaration of Human Rights. View on blip.tv

विश्वव्यापी परिवार

सन् १९४८ में सभी देशो ने सार्वलौकिक मानव अधिकारों के ३० अनुच्छेद स्वीकार करे । यह अनुच्छेद जीवन और स्वतंत्रता से सम्बन्धी विस्तृत मानव अधिकारों की गारंटी देते है ।

अब साठ वर्षों के बाद यह पहचानते हुए कि एक अरब से अधिक लोगों को पीने के योग्य साफ पानी नही मिलता और इसके परिणामस्वरूप हर वर्ष लाखों अपनी जान गावा देते हैं, यह अनिवार्य है की इस ऐतिहासिक घोषणा मैं एक नया अनुच्छेद जोड़ा जाए - पानी का अधिकार ।

हम संयुक्त राष्ट्र संघ से आदरपूर्वक अनुरोध करते है की पीने के योग्य साफ पानी के अधिकार को मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा मैं अनुच्छेद ३१ के रूप मैं स्वीकार करें और एक मूल मानव अधिकार
माने ।

हमारा विश्वास है की यह एक बेहतर दुनिया होगी जब पानी का अधिकार सभी राष्ट्रों द्वारा एक मूल मानव अधिकार माना जाएगा और मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा मैं जोड़ा जाएगा । यह सब के लिए पानी के लक्ष्य की तरफ एक प्रमुख कदम होगा।

हमारा साथ दे। पानी एक अधिकार है, विशेषाधिकार नही

अनुच्छेद ३१ को अपनाने केलिए याचिका पे हस्ताक्षर करे

अधिक जानकारी के लिए:

Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution-Noncommercial-Share Alike 3.0 License.